बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध | Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध , Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi, Nibandh, 100 शब्दों में , 300 शब्दों में , 500 शब्दों में ,हिंदी कविता 2022

 दोस्तो आज का हमारा विषय है बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध हमारा भारत कई तरह के सांस्कृतिक एवं वेशभूषा वाला देश है। मैं आपको इस विषय पर आज 100 , 300 और 500 शब्दों में निबंध लिखकर दूंगा। तो चलिए शुरू करते हैं ।

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध | Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

100 शब्दों में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ निबंध (Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi)

हमारे देश में कुछ लोग अभी भी सोचते हैं कि उन्हें पढ़ना और लिखना नहीं चाहिए, उन्हें घर का सारा काम करना चाहिए।
हमारे देश में लोग लड़की नहीं रखना चाहते, वे अपने घर में लड़का रखना चाहते हैं। यही कारण है कि इतने सारे लोग अपने गर्भ में मर जाते हैं। यदि आप अपने देश की बेटी को बचाते हैं, तो आपका देश और भी तेज़ हो जाएगा। प्राचीन समय में, लड़कियों को पढ़ाया नहीं जाता था, लेकिन जैसा कि हमारे देश में नए नवाचारों की तलाश है, हमारे देश में लोग अपना दिमाग बदल रहे हैं। अब वे लोग भी अपनी बेटियों को चाहते हैं। पढ़ो।

अन्य पढ़े: मेरे सपनों का भारत पर निबंध 

300 शब्दों में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध ( Beti Bachao Beti Padhao nibandh )

जहाँ पर स्त्री का सम्मान होता है वहाँ साक्षात् भगवान वास करते हैं ये आपको तो पता ही होगा | एक तरफ़ यह सुनकर बहुत आनंद होता है कि नारी का सशक्तीकरण, बेटी-बचाओ,बेटी पढ़ाओ ,लाड़ली योजना ऐसी योजनाएँ लाई जा रही हैं जो यह साबित करती है कि अभी भी समाज के बढ़े पदों पर पदों पर अच्छे लोग मौजूद हैं जो सृष्टि की संरचना में आधीभूमिका निभाने वाली महीयशी महिलाओं को उनके अधिकार दिलाने के लिए कार्यरत हैं दूसरी तरफ़ यह सोचकर मुझे काफ़ी दु:ख होता है किभारत जैसे देश में ऐसे भी लोग हैं जिन्हें यह बताने की ज़रूरत है कि नारियों को भी उनका अधिकार मिलना चाहिए।

हमारा देश एक स्वतंत्र देश है जहां लोग रहते हैं। सभी लिंगों को समान अधिकार प्राप्त हैं। इसलिए, सरकार ने लड़कियों की सुरक्षा और अध्ययन पर जोर दिया। बेतिया हमारे देश के समाज में सुरक्षित नहीं है, फिर भी उन पर अत्याचार किया जा रहा है। जगह-जगह दहेज के लिए लड़कियों को मारा जा रहा है। लड़कियों को गर्भ में मार दिया गया था, इसलिए सरकार द्वारा अभियान चलाया गया था।

यह योजना हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चलाई गई थी। योजना 22 जनवरी 2015 को शुरू की गई थी। इस योजना की शुरुआत के बाद से, कई लोगों को लड़कियों के बारे में जागरूक किया गया है। नतीजतन, आज बहुत से लोग अपनी बेटियों को उतना ही अधिकार देते हैं जितना वे अपने बेटों को देते हैं। इस योजना के तहत लड़कियों को शिक्षित किया जा रहा था, इस योजना के तहत पिछड़े विचारों वाले सभी लोगों को जागरूक किया गया था।

इस योजना के तहत लड़कियों के नाम पर एक बैंक खाता खोला जाता है जिसमें माता-पिता 14 वर्ष की आयु तक इसमें धन जमा करते हैं। और जब उसकी बेटी 18 साल की हो जाती है, तो वह इसका आधा हिस्सा निकाल सकता है। और जब उसकी बेटी बूढ़ी हो जाती है, तो वह पूरी रकम निकाल सकता है।

500 शब्दों में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ निबंध (Beti Bachao Beti Padhao nibandh in Hindi)

लड़कियों को हमारे घर और समाज दोनों द्वारा सम्मानित किया जाता है। सरकार को इस योजना के साथ आने की आवश्यकता है क्योंकि हमारे समाज ने सोचा था कि लड़कियों को केवल घर का काम करना चाहिए।इसलिए उन्हें पढ़ाया नहीं जाता है। हमारे देश में लड़कियों को बहुत मारा जा रहा है, कई लोग उन्हें दहेज के लिए मार रहे हैं और कई लोग उन्हें मार रहे हैं क्योंकि वे लड़कियों को पसंद नहीं करते हैं।

कई जगहों पर लड़कियों को गर्भ में ही मार दिया जा रहा है। इसलिए सरकार ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना शुरू की, जिसमें अभी भी एक नियम था कि अगर घर पर एक डॉक्टर ने कहा कि वह एक लड़की या लड़का है, तो उसका मेडिकल लाइसेंस और प्रमाण पत्र डॉक्टर से लिया जाएगा।

इसके बाद, लड़कियां गर्भ में सिकुड़ने लगीं। क्योंकि हमारे लोगों को पता नहीं है कि लड़का या लड़की माँ के गर्भ में पल रहे हैं। इस योजना को हमारे देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी 2015 को शुरू किया था। इस योजना के तहत बहुत सारे काम किए गए। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ। 2011 की जनगणना के अनुसार, प्रत्येक 1000 लड़कों के लिए केवल 945 लड़कियां हैं। जिससे हमारी सरकार ने लड़कियों को बचाने पर ज्यादा जोर दिया। हमारे देश में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना बहुत उपलब्ध थी, जिसने लड़कियों को बहुत सारे अधिकार दिए।

हम जब जनगणना की रिपोर्ट को देखे तो हमे पता चलता है कि प्रत्येक दशक में बालिका यानि स्त्री का अनुपात घटता ही रहा है। यह हमारे पृथ्वी पर जीवन की संभावना से संबंधित एक सबसे बड़ा खतरे का संकेत है। यदि लड़कियों के खिलाफ इस प्रकार के मुद्दों को कम करने के लिए तत्काल आधार पर कुछ भी सकारात्मक रूप से लागू नहीं किया जाता है, तो निश्चित रूप से महिलाओं और नए जन्मों के बिना एक दिन होगा। देश में बालिकाओं के इस कम होते हुए आंकड़े को ध्यान में रखते हुए, अपने प्रधान मंत्रीजी अर्थात नरेंद्र मोदीजी ने बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना शुरुवात की है।

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, यह नारा बहुत लोकप्रिय है क्योंकि हमारे देश में लड़कियों को नहीं पढ़ाया जाता है। कुछ लोग वर्तमान में अपने घर में लड़कियों को नहीं पढ़ाते हैं, वे सिर्फ अपने लड़कों को पढ़ाते हैं। हम आशा करते हैं कि एक ऐसा दिन होगा जब सामाजिक-आर्थिक कारणों से कोई भी बालिका नहीं मारी जाएगी, अशिक्षित, असुरक्षित, बलात्कार आदि। यहां, बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य पूरे देश में यौन भेदभाव को कम करके लड़कियों को सामाजिक और आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाना है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना का उद्देश्य है की देश में यौन के भेदभाव को कम और लड़कियों को आर्थिक और सामाजिक रूप से स्वतंत्र बनाए | लड़कियों को बचाया और शिक्षित किया जाना चाहिए क्योंकि यह कहा जाता है कि अगर एक लड़की शिक्षित होती है तो पूरा समाज और परिवार शिक्षित होता है। जब एक लड़की शिक्षित होती है, तो वह अपने भविष्य की समस्याओं को अपने दम पर हल कर सकती है और अपने परिवार को एक अच्छी शिक्षा भी दे सकती है और बाल बच्चेइसीलिए सरकार की योजना बहुत सफल रही। अब बेटियों को भी बेटो के समान अधिकार दिए जा रहे हैं।

“बेटी बचाओं,बेटी पढ़ाओ” हिंदी कविता

बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं

“बिल्कुल नही होती बोझ़”

हम बेटिया फ़क्र होती है,

जहा ज़ाती है ताज़ होती है

समझ़ सक़ो तो समझ़ लो।

हर ज़गह छा गयी है हम।

देख़ लो बॉर्डर मे भी हम ही है।

क्या आसमा क्या जमी

जहा देख़ो वहां हमी-हम है

-सुभासिनी गुप्ता

निष्कर्ष | conclusion

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर निबंध अर्थात Beti bachao beti padhao essay in Hindi। यदि आप इसी तरह अन्य विषय पर भी निबंध चाहते हैं तो उसके लिए हमें कमेंट कर सकते हैं।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरूआत कब हुई थी ?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की शुरूआत प्रधान मंत्री ने 22 जनवरी 2015 को पानीपत, हरियाणा में की थी। जिसका उद्देश्य लड़कियों के गिरते लिंगानुपात में कमी लाना है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ से क्या आशय है लिखिए?

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ से आशय कन्या शिशु को बचाने और इन्हें शिक्षित करने से है।

Leave a Comment